26 जनवरी HD Images Photos Wallpapers – गणतन्त्र दिवस 2017 तस्वीरे और वचन Slogans Naare Lines

26 जनवरी – गणतन्त्र दिवस-2017 तस्वीरे और वचन HD Images Photos Wallpapers Profile DP Slogans Lines Thoughts for Republic Day : गणतन्त्र दिवस की सुभकामनाए गाथाओं से भारतीय इतिहास के पृष्ठ भरे हुए हैं। देशप्रेम की भावना से ओत-प्रोत हजारों की संख्या में भारत माता के वीर सपूतों ने, भारत को स्वतंत्रता दिलाने में अपना सर्वस्य न्योछावर कर दिया था। ऐसे ही महान देशभक्तों के त्याग और बलिदान के परिणाम स्वरूप हमारा देश, गणतान्त्रिक देश हो सका।

26 January HD Images Photos Pics In Hindi 

26 January HD Photos Pictures Wallpapers Download : आज हम आपको कुछ 26 जनवरी – गणतन्त्र दिवस-2017 तस्वीर और वचन दिखाएगो इस पोस्त के माध्यम से.
तस्वीरे (गण+तंत्र) का अर्थ है, जनता के द्वारा जनता के लिये शासन। इस व्यवस्था को हम सभी गणतंत्र दिवस के रूप में मनाते हैं। वैसे तो भारत में सभी पर्व बहुत ही धूमधाम से मनाते हैं, परन्तु गणतंत्र दिवस को राष्ट्रीय पर्व के रूप में मनाते हैं। इस पर्व का महत्व इसलिये भी बढ जाता है क्योंकि इसे सभी जाति एवं वर्ग के लोग एक साथ मिलकर मनाते हैं।
गणतंत्र दिवस, 26 जनवरी को ही क्यों मनाते हैं? मित्रों, जब अंग्रेज सरकार की मंशा भारत को एक स्वतंत्र उपनिवेश बनाने की नजर नही आ रही थी, तभी 26 जनवरी 1929 के लाहौर अधिवेशन में जवाहरलाल नेहरु जी की अध्यक्षता में कांग्रेस ने पूर्णस्वराज्य की शपथ ली। पूर्ण स्वराज के अभियान को पूरा करने के लिये सभी आंदोलन तेज कर दिये गये थे। सभी देशभकतों ने अपने-अपने तरीके से आजादी के लिये कमर कस ली थी। एकता में बल है, की भावना को चरितार्थ करती विचारधारा में अंग्रेजों को पिछे हटना पङा। अंतोगत्वा 1947 को भारत आजाद हुआ, तभी यह निर्णय लिया गया कि 26 जनवरी 1929 की निर्णनायक तिथी को गणतंत्र दिवस के रूप में मनायेंगे।
26 जनवरी, 1950 भारतीय इतिहास में इसलिये भी महत्वपूर्ण माना जाता है क्योंकि भारत का संविधान, इसी दिन अस्तित्व मे आया और भारत वास्तव में एक संप्रभु देश बना। भारत का संविधान लिखित एवं सबसे बङा संविधान है। संविधान निर्माण की प्रक्रिया में 2 वर्ष, 11 महिना, 18 दिन लगे थे। भारतीय संविधान के वास्तुकार, भारत रत्न से अलंकृत डॉ.भीमराव अम्बेडकर प्रारूप समिति के अध्यक्ष थे। भारतीय संविधान के निर्माताओं ने विश्व के अनेक संविधानों के अच्छे लक्षणों को अपने संविधान में आत्मसात करने का प्रयास किया है। इस दिन भारत एक सम्पूर्ण गणतान्त्रिक देश बन गया।देश को गौरवशाली गणतन्त्र राष्ट्र बनाने में जिन देशभक्तो ने अपना बलिदान दिया उन्हे याद करके, भावांजली देने का पर्व है, 26 जनवरी।
Don't Miss : 26 January 2017 Speech
मित्रो, भारत से व्यपार का इरादा लेकर अंग्रेज भारत आये थे, लेकिन धीरे -धीरे उन्होने यहाँ के राजाओं और सामंतो पर अपनी कूटनीति चालों से अधिकार कर लिया। आजादी कि पहली आग मंगल पांडे ने 1857 में कोलकता के पास बैरकपुर में जलाई थी, किन्तु कुछ संचार संसाधनो की कमी से ये आग ज्वाला न बन सकी परन्तु, इस आग की चिंगारी कभी बुझी न थी। लक्ष्मीबाई से इंदिरागाँधी तक, मंगल पांडे से सुभाष तक, नाना साहेब से सरदार पटेल तक, लाल(लाला लाजपत राय), बाल(बाल गंगाधर तिलक), पाल(विपिन्द्र चन्द्र पाल) हों या गोपाल, गाँधी, नेहरु सभी के ह्रदय में धधक रही थी। 13 अप्रैल 1919 की (जलिया वाला बाग) घटना, भारतीय स्वतंत्रता संग्राम की सबसे अधिक दुखदाई घटना थी। जब जनरल डायर के नेतृत्व में अंग्रेजी फौज ने गोलियां चला के निहत्थे, शांत बूढ़ों, महिलाओं और बच्चों सहित सैकड़ों लोगों को मार डाला था और हज़ारों लोगों को घायल कर दिया था। यही वह घटना थी जिसने भगत सिंह और उधम सिंह जैसे, क्रांतीकारियों को जन्म दिया। अहिंसा के पुजारी हों या हिंसात्मक विचारक क्रान्तिकारी, सभी का ह्रदय आजादी की आग से जलने लगा। हर वर्ग भारतमात के चरणों में बलिदान देने को तत्पर था।

Republic Day 2017 HD Images Photos Pictures for WhatsApp Facebook

अतः 26 जनवरी को उन सभी देशभक्तों को श्रद्धा सुमन अपिर्त करते हुए, गणतंत्र दिवस का राष्ट्रीय पर्व भारतवर्ष के कोने-कोने में बड़े उत्साह तथा हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। प्रति वर्ष इस दिन प्रभात फेरियां निकाली जाती है। भारत की राजधानी दिल्ली समेत प्रत्येक राज्य तथा विदेषों के भारतीय राजदूतावासों में भी यह त्योहार उल्लास व गर्व से मनाया जाता है।
26 जनवरी का मुख्य समारोह भारत की राजधानी दिल्ली में भव्यता के साथ मनाते हैं। देश के विभिन्न भागों से असंख्य व्यक्ति इस समारोह की शोभा देखने के लिये आते हैं। हमारे सुरक्षा प्रहरी परेड निकाल कर, अपनी आधुनिक सैन्य क्षमता का प्रदर्शन करते हैं तथा सुरक्षा में सक्षम हैं, इस बात का हमें विश्वास दिलाते हैं। परेड विजय चौक से प्रारम्भ होकर राजपथ एवं दिल्ली के अनेक क्षेत्रों से गुजरती हुयी लाल किले पर जाकर समाप्त हो जाती है। परेड शुरू होने से पहले प्रधानमंत्री ‘अमर जवान ज्योति’ पर शहीदों को श्रंद्धांजलि अर्पित करते हैं। राष्ट्रपति अपने अंगरक्षकों के साथ 14 घोड़ों की बग्धी में बैठकर लालकिले पर आते हैं, जहाँ प्रधानमंत्री उनका स्वागत करते हैं। राष्ट्रीय धुन के साथ ध्वजारोहण करते हैं, उन्हें 21 तोपों की सलामी दी जाती है, हवाई जहाजों द्वारा पुष्पवर्षा की जाती है। आकाश में तिरंगे गुब्बारे और सफेद कबूतर छोड़े जाते हैं। जल, थल, वायु तीनों सेनाओं की टुकडि़यां, बैंडो की धुनों पर मार्च करती हैं। पुलिस के जवान, विभिन्न प्रकार के अस्त्र-षस्त्रों, मिसाइलों, टैंको, वायुयानो आदि का प्रदर्षन करते हुए देश के राष्ट्रपति को सलामी देते हैं। सैनिकों का सीना तानकर अपनी साफ-सुथरी वेषभूषा में कदम से कदम मिलाकर चलने का दृष्य बड़ा मनोहारी होता है। यह भव्य दृष्य को देखकर मन में राष्ट्र के प्रति भक्ति तथा ह्रदय में उत्साह का संचार होता है। स्कूल, कॉलेज की छात्र-छात्राएं, एन.सी.सी. की वेशभूषा में सुसज्जित कदम से कदम मिलाकर चलते हुए यह विश्वास उत्पन्न करते हैं कि हमारी दूसरी सुरक्षा पंक्ति अपने कर्तव्य से भलीभांति परिचित हैं। मिलेट्री तथा स्कूलों के अनेक बैंड सारे वातावरण को देशभक्ति तथा राष्ट्र-प्रेम की भावना से गुंजायमान करते हैं। विभिन्न राज्यों की झांकियां वहाँ के सांस्कृतिक जीवन, वेषभूषा, रीति-रिवाजों, औद्योगिक तथा सामाजिक क्षेत्र में आये परिवर्तनों का चित्र प्रस्तुत करती हैं। अनेकता में एकता का ये परिदृष्य अति प्रेरणादायी होता है। गणतन्त्र दिवस की संध्या पर राष्ट्रपति भवन, संसद भवन तथा अन्य सरकारी कार्यालयों पर रौशनी की जाती है।
26 जनवरी का पर्व देशभक्तों के त्याग, तपस्या और बलिदान की अमर कहानी समेटे हुए है। प्रत्येक भारतीय को अपने देश की आजादी प्यारी थी। भारत की भूमि पर पग-पग में उत्सर्ग और शौर्य का इतिहास अंकित है। किसी ने सच ही कहा है- “कण-कण में सोया शहीद, पत्थर-पत्थर इतिहास है।“ ऐसे ही अनेक देशभक्तों की शहादत का परिणाम है, हमारा गणतान्त्रिक देश भारत।
26 जनवरी का पावन पर्व आज भी हर दिल में राष्ट्रीय भावना की मशाल को प्रज्वलित कर रहा है। लहराता हुआ तिरंगा रोम-रोम में जोश का संचार कर रहा है, चहुँओर खुशियों की सौगात है। हम सब मिलकर उन सभी अमर बलिदानियों को अपनी भावांजली से नमन करें, वंदन करें।
जय हिन्द, जय भारत
Also Check : 26 January Hindi Kavita

26 जनवरी – गणतन्त्र दिवस तस्वीरे, सुभकामनाए, भाषण

26 जनवरी – गणतन्त्र दिवस तस्वीरे, सुभकामनाए, भाषण  

26 जनवरी – गणतन्त्र दिवस तस्वीरे, सुभकामनाए, भाषण  


26 जनवरी – गणतन्त्र दिवस तस्वीरे, सुभकामनाए, भाषण  

26 जनवरी – गणतन्त्र दिवस तस्वीरे, सुभकामनाए, भाषण  

26 जनवरी – गणतन्त्र दिवस तस्वीरे, सुभकामनाए, भाषण 
26 January Photos

26 January Photos

26 जनवरी – गणतन्त्र दिवस अनमोल वचन, उद्धरण, हिनदी भाषण

1) अपनी विद्वता पर गर्व करना सबसे बड़ा अज्ञान है। -स्वामी महावीर

2) आलस्य दरिद्रता का मूल है। - यजुर्वेद

3) दुर्भाग्य को नहीं होती आँखें की वह मनुष्य का निरंतर पीछा करे। - डॉ॰ रामप्रसाद कुशवाहा

4) हमे ऐसी शिक्षा की आवश्यकता है जिसके द्वारा चरित्र का निर्माण होता है।

5) मस्तिष्क की शक्ति बढ़ती है, बुद्धि का विकास होता है और मनुष्य अपने पैरों पर खड़ा होकर स्वावलंबी बन सकता है। - स्वामी विवेकानंद

6) आत्मोन्न्ति के लिए कठिनाइयों से बढ़कर कोई विद्यालय नहीं है। -मुंशी प्रेमचन्द्र

7) दृढ़ प्रतिज्ञ मनुष्य संसार को अपनी इच्छा के अनुसार झुका लेता है। - गेटे

8) अपने साथ किए गए बुराइयों को बालू पर और अच्छाइयों को पत्थर पर लिखना चाहिए। - सुकरात

9) मूर्ख स्वयं को बुद्धिमान समझते है किन्तु वास्तविक में बुद्धिमान स्वयं को मूर्ख समझते हैं। - सेक्सपियर

10) जिस शिक्षा का असर हमारे चरित्र पर नहीं पड़ता वह किसी काम का नहीं। - महात्मा गाँधी

11) विनम्रता समस्त गुणों की आधारशिला है। -कनफ्यूसियस

12) मनुष्य स्वयं अपने भाग्य का निर्माता है। - नेपोलियन

13) अच्छे विचार रखना भीतरी सुन्दरता है। - स्वामी रामतीर्थ

14) गुणों का समूह हो तो एक दोष वैसे ही छुप जाता है जैसे चंद्रमा की किरणों में उसका कलंक । - कालिदास

15) जहाँ डींग समाप्त होती है प्रतिष्ठा वहीं से शुरू होती है। - शरतचंद्र

16) महान पुरुष अवसर की कमी की शिकायत कभी नहीं करते – इमर्सन

17) जो महान उद्देशय के लिए मरते हैं उनकी कभी हार नहीं होती – बायरन

18) निर्णय अनिर्णय के बीच झूलते व्यक्ति से बड़ा दरिद्र और कोई नहीं – विलियम जेम्स

19) अपनी अज्ञानता का आभास हो जाना ही ज्ञान का प्रथम सोपान है – डिजाराइली

20) असफलता से हमारी बुद्धि का जितना विकास होता है उतना सफलता से नहीं – स्माइल्स

21) दोष निकालना जितना आसान है उन्हे सुधारना उतना कठिन – प्लुटार्क

22) गुरुजनों को प्रणाम और बड़े बूढ़ों की सेवा करने वाले की आयु, विद्या, यश और बल ये चार चीजें बढ़ती है – मनुस्मृति

23) सत्य बोलने वाले को अपने मस्तिष्क पर यह बोझा नहीं ढोना पड़ता कि उसने कब किससे क्या कहा था – महात्मा गाँधी

24) उससे मित्रता कभी न कर जो तुझसे बेहतर नहीं – कन्फ़्यूसिअस

25) कुरूप मनुष्य का सौन्दर्य विद्या है, तपस्वियों का सौन्दर्य क्षमा है – चाणक्य

26) ऐसी बात मत कहो जिस पर खुद भी अमल ना कर सको – कुरान शरीफ

27) मेहनत का अन्त आराम है – अरस्तू

28) चित्त कि वृत्तियों को वश में रखना ही योग है – पतंजलि

29) मूर्खों से अपनी प्रसंशा सुनने के बजाय बुद्धिमानों कि लताड़ सुनना श्रेयकर है – बाइबिल

30) विचार कितने ही अच्छे क्यों न हों तदनुकूल आचरण नहीं है तो वे निरर्थक है – गीता

31) असफलता से निराश मत हो वह तो तुम्हारे लिए एक नई प्रेणना है – साउथ

32) अग्नि स्वर्ण को परखती है और मुसीबत वीर पुरुष को – लेवेटर

33) एकान्त प्राय: सर्वोत्म संगति है – मिल्टन

34) चरित्र की संपत्ति दुनिया के समस्त दौलतों से बढ़कर है – महात्मा गाँधी

35) अपनी भूल को स्वीकार कर लेना एवं वैसी भूल फिर न करने का प्रयास करना वीर एवं शूर होने का प्रतीक है – महात्मा गाँधी

36) अहिंसा वीरों का अस्त्र है और हिंसा कायरों का – महात्मा गाँधी

37) कायरता से हिंसा अच्छी है – महात्मा गाँधी

38) एक क्षण भी बिना काम के रहना एक प्रकार की चोरी है – महात्मा गाँधी

39) यदि मनुष्य सीखना चाहे तो उसकी हर भूल उसे शिक्षा दे सकती है – महात्मा गाँधी

40) कर्म ही जीवन की सफलता ककई कुंजी है – स्वामी विवेकानंद

41) हमारा उद्देश्य संसार के प्रति भलाई करना है, अपने गुणों करना नहीं – स्वामी विवेकानन्द

42) निराशा निर्बलता का चिन्ह है – स्वामी रामतीर्थ

43) लक्ष्य को ही अपना जीवन कार्य समझों, हर समय उसका चिन्तन करो, उसी का स्वप्न डेखो और उसी के सहारे जीवित रहो – स्वामी विवेकानंद
Incoming Search Terms :
26 January 2017 Images
26 January HD Photos
26 jan 2017 Photos
Republic Day 2017 Images In HD

1 comment:

  1. Hey, This is the great post must say, the content and pictures are awesome. I really like the efforts you done in this post. The content of this post is commendable. Thanks for sharing such a great post. Thank you so much for this article, i really like it. Such A good Post I saw in internet. I love to visit your site always :) I glad to see this :)

    Republic day Images

    ReplyDelete

(LOOT)Independence day - 15 August

  Independence  day   of India is an annual observance celebrated every year on 15thof August. India’s Independence Day is a day of great ...